पर्यटन

लोहरदगा पर्यटन:

प्रकृति के गोद में बसा लोहरदगा की अपनी सांस्कृतिक और एतिहासिक विरासत है, जिसकी सुन्दरता देखती ही आपकी मन मोह लेती है | इस जिला में बॉक्साइट खनिज प्रचुर मात्रा में पाया जाता है इसलिए इसे बॉक्साइट की नगरी भी कहा जाता है |
यह जिला उत्तर में लातेहार जिले से ,दक्षिण एवं पश्चिम में गुमला जिले से और पूरब में राँची जिले से घिरा हुआ है | लोहरदगा जिला छोटानागपुर पठार में स्थित है।

मौसम:

जिला में पूरे वर्ष  स्वस्थ, सुखद वातावरण का मौसम रहता है। वार्षिक औसत तापमान 23 डिग्री सेल्सियस है, गर्मियों में उच्चतम तापमान 36 डिग्री सेल्सियस और सर्दियों में 10 डिग्री सेल्सियस के निम्नतम स्तर पर जाता है। जिले में 1000 से 1600 मिमी की वार्षिक वर्षा होती है और यह पश्चिम से होकर पूर्व की ओर बढ़ जाती है।

आकर्षण:

लावापनी झरना , केकरांग झरना , प्राचीन शिव मंदिर -खकपरता , विक्टोरिया झील , नंदनी डैम , अखिलेश्वर धाम, पेशरार की पहाड़िया, अजय उद्यान इत्यादी

कैसे पहुंचा जाये:

हवाई यात्रा द्वारा
लोहरदगा से निकटतम हवाईअड्डा राजधानी रांची है जो यहाँ से लगभग 70 किमी दुरी पर स्थित है |

ट्रेन द्वारा
लोहरदगा रेलवे स्टेशन राज्य के राजधानी रांची एवं लातेहार जिले के टोरी स्टेशन से जुडा हुआ है |

सड़क के द्वारा
लोहरदगा से राजधानी रांची है जो यहाँ से लगभग 70 किमी दुरी पर स्थित है | यहाँ जाने के लिये अपने निजी वाहन से यात्रा की जा सकती है |

विश्राम :

लोहरदगा परिसदन, जिला परिषद आइ० बी० ,भंडरा जिला परिषद आइ० बी०